मंगलवार, जून 25, 2024

व्यक्तित्व

जयपाल सिंह मुंडा: एक आदिवासी नेता, एक सांसद, एक सेनानी, एक मार्गदर्शक और एक प्रेरणा

3 जनवरी : जन्मदिवस पर विशेष जयपाल सिंह मुंडा भारत के इतिहास में एक ऐसा नाम है, जिन्होंने अपने जीवन में कई भूमिकाओं को निभाया और अपने समाज और देश के लिए कई उपलब्धियों को हासिल किया। वे एक आदिवासी...

माता सावित्रीबाई फुले का जीवन संघर्ष और तत्कालीन सामाजिक परिस्थितियां

3 जनवरी: जयंती पर विशेष माता सावित्रीबाई फुले भारत की पहली महिला शिक्षिका और महान समाज सुधारक थीं। उन्होंने अपने पति महात्मा ज्योतिबा फुले के साथ मिलकर समाज में व्याप्त कुरीतियों के खिलाफ आजीवन संघर्ष किया। उन्होंने महिलाओं, दलितों और...

आज की चुनौतियां और भगत सिंह

शहीद भगत सिंह जयंती पर विशेष भगत सिंह को 23 मार्च 1931 को फांसी दी गई थी और अपनी शहादत के बाद वे हमारे देश के उन बेहतरीन स्वाधीनता संग्राम सेनानियों में शामिल हो गये, जिन्होने देश और अवाम को...

पितृसत्ता, धर्म-जाति और ब्राह्मणवादी राष्ट्रवाद का विनाशक: ईवी रामास्वामी पेरियार

जन्मदिवस पर विशेष हम, खासकर उत्तर भारत के लोग ई.वी. रामासामी नायकर ‘पेरियार’ (17 सितंबर 1879 – 24 दिसंबर 1973) के बारे में नहीं जानते हैं या बहुत कम जानते हैं। वे भारत की प्रगतिशील बहुजन-परंपरा के ऐसे चिन्तक, लेखक...

डॉ.भंवर सिंह पोर्ते: जिन्हें श्रद्धा से याद करता है आदिवासी समाज

जन्मतिथि पर विशेष आदिवासी विकास परिषद के संस्थापक अध्यक्ष एवं आदिवासियों के मसीहा कहे जाने वाले आदिवासियों के नेता डॉ.भंवर सिंह पोर्ते को कौन नहीं जानता? आदिवासियों के उत्थान एवं आदिवासी कल्याण के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर देने...

कबीर: आध्यात्म, व्यवसाय, सत्ता और यथार्थ

आज से लगभग 568 वर्ष पूर्व सद्गुरु कबीर साहब का जन्म/प्राकट्य बताया जाता है। उनकी जीवन काल के दौर के भारतीय समाज मे धर्म और आडम्बर आधारित मतभेद के कारण कबीर एक क्रांतिकारी विचारधारा प्रवर्तक बनकर सामने आये। भारतीय...

कौन है गुंडा? कैसे बना गुंडा एक्ट? एक हैरतअंगेज दास्तान

राजनीति में गुंडा शब्द इन दिनों काफी प्रचलित हो चुका है। ये शब्द अक्सर सुनने को मिलते हैं- भाजपा के गुंडे, सपा के गुंडे, किसान नहीं गुंडे हैं। गुंडागर्दी, गुंडा टैक्स, गुंडाराज भी कहा जाता है। आम बोलचाल, मीडिया...

भारत की प्रथम महिला शिक्षिका व महान समाज सुधारक माता सावित्री बाई फुले

03 जनवरी: जन्म दिवस पर विशेष सामाजिक और शैक्षणिक इतिहास के पन्नों में बहुत सी ऐसी क्रान्तिकारी विभूतियाँ गुम हैं जिनका सही मूल्यांकन नहीं हो पाया है। उनमें से एक महान विभूति हैं- मां सावित्रीबाई फुले। उन्नीसवीं...

Latest News

भारत की वीरांगना: महारानी दुर्गावती की 260वीं बलिदान दिवस पर संगोष्ठी

कोरबा (आदिनिवासी)। आदिवासी शक्ति पीठ, बुधवारी बाजार कोरबा में 24 जून को मध्य भारत के बावन गढ़ संतावन परगना...