रविवार, जून 16, 2024

छत्तीसगढ़ में आदिवासियों के आरक्षण का मामला: विशेष सत्र बुलाने राज्यपाल ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

Must Read

रायपुर (आदिनिवासी)। उच्च न्यायालय छत्तीसगढ़ के निर्णय के बाद छत्तीसगढ़ के राज्यपाल अनुसुईया उइके ने अनुसूचित जनजातियों के आरक्षण प्रतिशत में आई कमी के संबंध में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पत्र लिखकर इस दिशा में शासन द्वारा की गई कार्रवाई के बारे में जानकारी मांगी है।

राज्यपाल ने पत्र में उल्लेखित किया है कि इस आशय से विधानसभा सत्र आहूत कर विधेयक पारित करने या अध्यादेश के माध्यम से समस्या का समाधान संभव हो तो शीघ्र कार्रवाई करें। उन्होंने इस संबंध में राजभवन द्वारा पूर्ण सहयोग करने की बात कही है।

ज्ञात हो कि उच्च न्यायालय के हालिया निर्णय से छत्तीसगढ़ में अनुसूचित जनजातियों का आरक्षण 32 प्रतिशत से घटकर 20 प्रतिशत हो गया है। जिससे प्रदेश में शासकीय पदों में भर्तियों पर भी विराम लग गया है।

राज्यपाल ने पत्र में उल्लेखित किया है कि जनजातीय समाज के विभिन्न राजनीतिक और गैर राजनीतिक संगठन और अधिकारी व कर्मचारी संगठनों द्वारा विभिन्न स्तरों पर प्रदर्शन कर आरक्षण बहाली की मांग की जा रही है। उक्त स्थिति से आदिवासी समाज में भारी असंतोष व्याप्त है और कानून व्यवस्था की स्थिति निर्मित हो रही है।

राज्यपाल ने पत्र में लिखा है कि जनजातीय बाहुल्य प्रदेश होने के कारण बतौर राज्यपाल जनजातीय हितों का संरक्षण करना मेरी जिम्मेदारी है और संविधान की मूल भावना को बनाए रखना भी सर्वोच्च प्राथमिकता है।

राज्यपाल ने पत्र के माध्यम से मुख्यमंत्री से जनजातियों के आरक्षण बहाली के लिए अब तक की गई कार्रवाई और इस दिशा में आगामी प्रयासों की भी जानकारी तत्काल साझा करने को कहा है।


- Advertisement -
  • nimble technology
[td_block_social_counter facebook="https://www.facebook.com/Adiniwasi-112741374740789"]
Latest News

बालको विभिन्न पहल के माध्यम से सड़क सुरक्षा संस्कृति को दे रहा बढ़ावा

बालकोनगर (आदिनिवासी)। वेदांता समूह की कंपनी भारत एल्यूमिनियम कंपनी लिमिटेड (बालको) ने इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड (आईओसीएल), कोरबा बल्क...

More Articles Like This