मंगलवार, जून 25, 2024

कोरबा जिले के भूविस्थापितों ने एसईसीएल मुख्यालय बिलासपुर का किया घेराव: रोजगार की मांग

Must Read

23 फरवरी को सीएमडी के साथ बैठक कराने का मिला आश्वाशन

कोरबा। एसईसीएल के कुसमुंडा, गेवरा, दीपका क्षेत्र के प्रभावित गांव के भू विस्थापितों ने छत्तीसगढ़ किसान सभा के नेतृत्व में लंबित रोजगार की प्रकरणों का निराकरण कर सभी खातेदारों को रोजगार देने की मांग को लेकर एसईसीएल मुख्यालय बिलासपुर के मुख्य द्वार को बंद कर घेराव प्रदर्शन करते हुए सभी खातेदारों को रोजगार देने की मांग को लेकर नारेबाजी करने लगे। 5 घंटे प्रदर्शन के बाद एसईसीएल मुख्यालय के अंदर से अधिकारी बाहर आकर एक प्रतिनिधि मंडल को मांगो के संबंध में चर्चा के लिए बुलाया। घेराव को रोकने के लिए दो चरण में बेरिकेटिंग की गई थी पहले बेरिकेटिंग को तोड़कर मुख्य द्वार तक पहुंचने में भू विस्थापित सफल हो गए इस बीच सुरक्षा में तैनात सुरक्षा कर्मियों के साथ धक्का मुक्की और काफी नोकझोंक भी हुई।

उल्लेखनीय है कि 840 दिन से कुसमुंडा मुख्यालय के सामने भू विस्थापित रोजगार एकता संघ के बेनर तले छत्तीसगढ़ किसान सभा के सहयोग से जमीन के बदले रोजगार की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं इस बीच कई बार खदान बंद भी किया गया। विस्थापित इस बार रोजगार मिलने तक संघर्ष जारी रखने की बात पर अड़े हुए हैं। मांगो पर सकात्मक पहल नहीं होने पर 29 फरवरी को सभी क्षेत्रों में प्रदर्शन और खदान बंद किया जाएगा।

किसान सभा के जिला सचिव प्रशांत झा ने बैठक में एसईसीएल के अधिकारियों से कहा की सभी भू विस्थापित किसानों जिनकी जमीन एसईसीएल ने अधिग्रहण किया है उन सभी खाते पर भू विस्थापितों को स्थाई रोजगार एसईसीएल को देना होगा। विकास परियोजना के नाम पर गरीबों को सपने दिखा कर करोड़ों लोगों को विस्थापित किया गया है अपने पुनर्वास और रोजगार के लिये भू विस्थापित परिवार आज भी भटक रहे हैं।

भू विस्थापित रोजगार एकता संघ के दामोदर श्याम, रेशम यादव, रघु यादव, सुमेंद्र सिंह और दीपका क्षेत्र के पवन यादव ने कहा कि 1978 से लेकर 2004 के मध्य कोयला खनन के लिए जमीन को अधिग्रहित किया गया है लेकिन तब से अब तक विस्थापित ग्रामीणों को न रोजगार दिया गया है न पुनर्वास ऐसे प्रभावितों की संख्या सैकड़ों में है। लंबित रोजगार प्रकरणों में रोजगार के संबंध में एसईसीएल के मेन पावर के महाप्रबंधक ने कहा कि प्रत्येक खातेदारों को रोजगार देने की प्रक्रिया जल्द पूरी की जाएगी इस संबंध में उच्च स्तरीय बैठक सीएमडी के उपस्थिति में 23 फरवरी को की जाएगी । जिस पर भूविस्थापितों ने कहा कि लंबित रोजगार प्रकरणों में वन टाईम सेटलमेंट के आधार पर रोजगार दिया जाये।
बैठक में भू विस्थापितों की ओर से किसान सभा के जवाहर सिंह कंवर, प्रशांत झा,जय कौशिक रोजगार एकता संघ से दामोदर श्याम,रेशम यादव,रघु यादव,बृजमोहन,सरिता,अमृत बाई, दीपका से पवन यादव उपस्थित थे बैठक में लंबित रोजगार प्रकरणों में रोजगार देने को लेकर सकारात्मक चर्चा हुई।

बैठक में भूविस्थापितों ने एसईसीएल के अधिकारियों से कहा कि 10 दिनों में सभी खातेदारों को रोजगार देने को लेकर उचित कार्यवाही नहीं होने पर 29 फरवरी को तीनों क्षेत्र के खदान को बंद किया जाएगा।
मुख्यालय के सामने प्रदर्शन में प्रमुख रूप से अनिल बिंझवार, रघुनंदन, नरेश, गोरेलाल, कृष्ण कुमार, नारायण, नरेंद्र, होरीलाल, सुमेंद्र सिंह, अनिरुद्ध, हरिशरण, डूमन, उमेश, विजय, बजरंग सोनी, लम्बोदर, उत्तम, जितेंद्र, गणेश, देव कुंवर, राजकुमारी, सुक्रिता, नरेश दास, मानिक दास के साथ बड़ी संख्या में भूविस्थापित उपस्थित थे।


- Advertisement -
  • nimble technology
[td_block_social_counter facebook="https://www.facebook.com/Adiniwasi-112741374740789"]
Latest News

भारत की वीरांगना: महारानी दुर्गावती की 260वीं बलिदान दिवस पर संगोष्ठी

कोरबा (आदिनिवासी)। आदिवासी शक्ति पीठ, बुधवारी बाजार कोरबा में 24 जून को मध्य भारत के बावन गढ़ संतावन परगना...

More Articles Like This