बुधवार, जून 26, 2024

मां से इश्क और 4 साल के बेटे को जलाया:रोते हुआ पिता बोला-मेरे बच्चे को पेट्रोल से नहलाकर जलती हुई बीड़ी फेंकी, उसे फांसी होनी चाहिए

Must Read

रायपुर के उरला इलाके में हुए किडनैपिंग केस में एक नया खुलासा हुआ है। घटना को अंजाम देने वाले आरोपी पंचराम ने बताया है कि वह बच्चे की मां से प्यार करता था। मां को हासिल करना चाहता था। इसी मकसद से बच्चे को रास्ते से हटाने के लिए उसने 4 साल के हर्ष को किडनैप किया। घर से दूर ले गया और जिंदा जलाकर भाग गया।

सिटी एसपी तारकेश्वर पटेल ने बताया कि आरोपी पंचराम ने पूछताछ में इस बात को कबूला है कि वह बेमेतरा के एक गांव में बच्चों को अपने साथ ले गया और पेट्रोल डालकर उस पर आग लगा दी।

जयेंद्र ने बताया कि पंचराम हमारे घर से लगी दीवार के दूसरे कमरे में ही किराए में रहता था। उसके बयान के मुताबिक उसने पेट्रोल से मेरे बच्चों को नहलाया, मेरे बच्चा उससे बोला कि चाचू आंख जल रही है। पंचराम ने उस पर गमछा लपेटा और फिर जलती हुई बीड़ी मेरे बच्चे पर पर फेंक दी। हमारे हाथ में छोटा सा जख्म लग जाए तो कितना दर्द होता है मेरे बच्चे को उसने जिंदा जलाया वह कितना तड़पा होगा। ऐसे इंसान को फांसी होनी चाहिए।

इस प्रकरण में जब यह बात सामने आई कि आरोपी ने महिला से प्यार के चक्कर में उसके बच्चे को जिंदा जला दिया। तो पुलिस अब लगातार महिला से पूछताछ कर रही है। बच्चे की मां पुष्पा ने फिलहाल आरोपी पंचराम से किसी संबंध की बात पर इंकार किया है। मगर इस पूरे मामले को सुलझाने का प्रयास अभी जारी है।

पंचराम पर था भरोसा
बच्चे के पिता जयेंद्र, उरला इलाके में पूर्व पार्षद अशोक बघेल नाम के व्यक्ति के मकान में किराए से रहते हैं। अशोक बघेल ने बताया कि आरोपी पंचराम भी मेरा ही किराएदार है। वो अपनी मां के साथ यहां अकेला रहता था कुछ साल पहले उसकी पत्नी उसे छोड़कर भाग गई थी। पंचराम, जयेंद्र के बच्चों के साथ घुला मिला था। हर्ष को अक्सर अपनी बाइक पर घुमाया करता था। इसी भरोसे की वजह से जब मंगलवार को हर्ष को पंचराम लेकर गया तो किसी ने रोका और टोका नहीं। मगर जब देर शाम तक बच्चा और पंचराम नहीं लौटा तो मामला थाने पहुंचा।

फोन लोकेशन से आया पकड़ में
पुलिस के मुताबिक बच्चे को अपने साथ ले जाने के आधे से 1 घंटे के भीतर ही पंचराम ने जिंदा जला कर उसकी हत्या कर दी थी। बच्चे के पिता जयेंद्र के मकान मालिक अशोक बघेल ने बताया कि हर्ष को ले जाने के बाद पंचराम ने अपनी मां को किसी दूसरे फोन नंबर से फोन किया था। जब हमने उस नंबर पर बात की तो पता चला कि भिलाई में पंचराम ने अपनी बाइक 15 हजार में एक शख्स को बेच दी है। वह नंबर उसी ऑटो डीलर का था। इस बात की जानकारी हमने पुलिस को दी और फिर पुलिस ने पंचराम को पकड़ा, पंचराम महाराष्ट्र भागने की ताक में था।

यह है पूरा मामला
उरला इलाके से 5 अप्रैल की सुबह हर्ष नाम के 4 साल के बच्चे का किडनैप हुआ था। पड़ोस में रहने वाले पंचराम ने उसे किडनैप किया था। शुक्रवार को पुलिस ने नागपुर के पास से पंचराम को पकड़ा तो बच्चे की हत्या और उसकी मां से प्यार की बातें सामने आईं। अब पुलिस इस केस में परिजनों के बयान ले रही है, पंचराम ने अपना गूनाह कबूला है। बेमेतरा से उसकी बताई जगह से पुलिस ने किडनैप हुए बच्चे की अधजली लाश बरामद की है।


- Advertisement -
  • nimble technology
[td_block_social_counter facebook="https://www.facebook.com/Adiniwasi-112741374740789"]
Latest News

भारत की वीरांगना: महारानी दुर्गावती की 260वीं बलिदान दिवस पर संगोष्ठी

कोरबा (आदिनिवासी)। आदिवासी शक्ति पीठ, बुधवारी बाजार कोरबा में 24 जून को मध्य भारत के बावन गढ़ संतावन परगना...

More Articles Like This