रविवार, जून 16, 2024

व्यंग

एक अकेला, सब आभारी! आख़िर गोदी-विरोधी मीडिया को इतनी ईर्ष्या क्यों है!

व्यंग : राजेंद्र शर्मा इन पत्रकारों की नस्ल वाकई कुत्तों वाली है। देसी हों तो और विदेशी हों तो, रहेंगे तो कुत्ते ही। मोदी जी बारह नहीं, तो नौ साल से ज्यादा तो पूंछ नली में डालकर रखे ही हुए...

मणिपुर में अब करे पुकार, बुलडोज़र लाओ सरकार

व्यंग : राजेंद्र शर्मा मणिपुर वालों के साथ तो वाकई बड़ी नाइंसाफी हो रही है। बताइए, मारा-मारी चलते पूरे तीन महीने हो गए। पौने दो सौ या उससे भी ज्यादा लोगों का इस दुनिया से उस दुनिया में तबादला भी...

तुम मुझे एक और मौका दो, मैं तुम्हें एक और आज़ादी दूंगा

व्यंग : राजेंद्र शर्मा पारदर्शिता हो तो ऐसी। आम चुनाव का सीजन अभी आठ-नौ महीना दूर है, पर मोदी जी ने अभी से अपना ऑफर दे दिया है। तुम मुझे तीसरी टर्म दो, मैं तुम्हें सब कुछ दूंगा। रोजगार-ओजगार जैसी...

दिया हुआ पुरस्कार वापस नहीं लिया जाएगा

व्यंग : राजेंद्र शर्मा भई मानना पड़ेगा कि भगवाधारियों ने पुरस्कार वापसी गैंग का गजब का तोड़ निकाला है। अब देखते हैं, कैसे कोई पुरस्कार वापस करता है और कैसे ये गैंग पुरस्कार वापसी से इस सरकार को शर्मिंदा करता...

षडयंत्र ही षडयंत्र, पहले जांच तो करा लीजिए

व्यंग : राजेंद्र शर्मा रविशंकर बाबू का इशारा सौ फीसद सही है। जरूर मणिपुर की दरिंदगी का वीडियो सामने आने के पीछे गहरा षडयंत्र है। बाबू साहब गलत नहीं बोलेंगे। कानून के जानकार ही नहीं हैं, मोदी जी के खुड्डे...

आखिरकार मोदी जी को गुस्सा क्यों आता है?

व्यंग : राजेंद्र शर्मा मोदी जी जो कुछ भी करते हैं या बहुत बार नहीं भी करते हैं, विरोधी षडयंत्रपूर्वक उसके खिलाफ दुष्प्रचार का मौका निकाल ही लेते हैं। अब मणिपुर के मुद्दे पर चुप रहने का ही मामला ले...

नौकरी का मोह छोड़ो, स्टार्टअप के पीछे दौड़ो

व्यंग : राजेंद्र शर्मा हम तो पहले ही कहते थे। मोदी जी की याददाश्त इतनी खराब थोड़े ही है कि हर साल दो करोड़ नौकरियों का वादा करने के बाद भूल गए होंगे। मोदी जी अब अगर नौकरियों की बात...

इस्‍तीफ़ा न मांगियो कोय

व्यंग्य : राजेंद्र शर्मा किसी ने सही कहा है कि इस्‍तीफ़ा मांगने वालों को तो इस्‍तीफ़ा मांगने का बहाना चाहिए। बताइए, बालासोर में रेल दुर्घटना हुई नहीं कि आ गए इस्‍तीफ़ा मांगने - रेल मंत्री इस्‍तीफ़ा दो! और कुछ इस्‍तीफ़ा-याचकों...

राजदंड बिन सून सब तरफ!

व्यंग : राजेंद्र शर्मा विपक्ष वालों! ऐसी भी क्या तंग–दिली। संसद की नई बिल्डिंग बनवाने के लिए न सही‚ नई बिल्डिंग का उद्घाटन करने तक का सारा बोझ अकेले ही उठाने के लिए भी न सही‚ पर कम-से-कम नये इंडिया...

बदनाम भी होगा, तब भी राम का नाम होगा: न्यू इंडिया के राम भक्त

व्यंग्य : राजेंद्र शर्मा देखी, देखी, छद्म सेकुलरवालों की चालबाजी देखी! रामनवमी गुजरी नहीं कि आ गए एक बार फिर रामभक्तों को गुमराह करने। कहते हैं कि जैसे बिहार, महाराष्ट्र, कर्नाटक, मप्र, गुजरात वगैरह, कम से कम आठ राज्यों में...

Latest News

बालको विभिन्न पहल के माध्यम से सड़क सुरक्षा संस्कृति को दे रहा बढ़ावा

बालकोनगर (आदिनिवासी)। वेदांता समूह की कंपनी भारत एल्यूमिनियम कंपनी लिमिटेड (बालको) ने इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड (आईओसीएल), कोरबा बल्क...